Monthly Archives: October 2013

थके कान

कहते हैं रात दिनभर की सारी आवाज़ों को अपनी खामोशी में छुपा लेती है। पर क्या सच में रात खामोश होती है? तकरीबन रात के पोने एक का वक्त है। मैं अभी अभी अपने काम पर से लौट कर कमरे में दाख़िल हुआ हूँ। पूरा कमरा गर्म भाप से भरा हुआ है। दरवाजा खोलते ही लगा जैसे दिनभर की खामोशी अब टूट जायेगी। एक पल ऐसा लगा की बंद दरवाजें के पीछे कई आवाज़ें पहले से ही छुपी हुई हैं। सब कुछ बोल रहा है। दिवारें, दिवार पर लटकी घड़ियां, घड़ियों में लंगड़ाकर चलती सूइयां, तस्वीरें, उनमें छुपी यादें, कमरें की कुर्सियां, उनकी गद्दियां, पलंग और उसपर रखे तकिये। सभी कुछ मुझसे बातें करने की कोशिश में है। कुछ भी शांत नहीं है। दरवाजें आपस में अड़ंगी देकर एक दूसरे को अपने से अलग कर रहे हैं और कमरे के भीतर खेलती हवा सबको छेड़ रही है। सुस्त हवा की अपनी कोई आवाज़ सुनाई नहीं देती मगर वो जिसको भी छू लेती वही बोल पड़ने की फिराक में है। कमरे में झिगूरों की आवाज़ें हैं। लगता है जैसे वो मेरे आने से पूरी तरह से नराज़ है। मुझे डरा रहें हैं।

Continue reading

word of the week : हुड़दंग

हुड़दंग

भीड़ में ही हुड़दंग संभव है। इसमें शरीर और आवा‌ज़ों की बेतरतीब गतियाँ हैं। इसमें एक क़िस्म की नक़ारात्मक छवि है, जो उस स्थान की तात्कालिक व्यवस्था को चुनौती देती है। अफरातफरी, हड़बड़ी और कहीं – कहीं भगदड़ इसका अहम हिस्सा है। इसमें उन्माद के साथ एक – दूसरे से होड़ और हैरानी का भाव भी चिपका रहता है। ये जगह में इतर से बितर और बितर से इतर होने वाली आवाज़ है, यानि एक जगह नहीं रहती।सुनने और देखने वाले के लिये ये दहशत भरा नज़ारा पेश करती है। हुड़दंग की आवाज़ें स्वभाविक इंसानी आवाज़ें नहीं हैं। ये आवाज़ों की भगदड़ है और ये आवाज़ों के अनुशासन को नकारती है।

word of the week : सन्नाटा

सन्नाटा

सन-सन की आवाज़ से पैदा हुआ ख़ामोशी का यह पर्याय कितना दिलचस्प है! ‘मुर्दा शांति’ या ‘पिन ड्रॉप सायलेन्स’ को भी अभिव्यक्ति के लिए आवाज़ की ज़रूरत होती है। सन्नाटा यानि जब आवाज़ों का अभाव इतना तीखा हो कि उसका अहसास आप पर भारी पड़ जाए। ऐसी ख़ामोशी जहाँ आप अपनी हरकत को ही सुनने लगें। इतनी अविश्वसनीय कि कोई भुतहा मौजूदगी प्रतीत होने लगे। शहरों में ऐसे मौक़े कभी आते हैं क्या?

follow @delhilisteners on twitter for listening word of the week #dlgwow